IP Address क्या है और इसकी जरुरत क्यों है

0
IP Address क्या है
IP Address क्या है

आप सभी इंटरनेट यूजर कभी ना कभी तो IP Address के बारे में जरुर सुने होंगा अभ IP Address क्या है और इसकी जरुरत क्यों पड़ी इसके अलग-अलग प्रकार क्या है इन्ही सब चीजो के बारे में आज मे आपके साथ बात करने वाला हु तो आप इस आर्टिकल को अछे से पढ़े

Internet में हम सभी क्या करते है ? अपने information को एक्सचेंज करते है एक जगह से दुसरे जगह पे और आप ये जो आर्टिकल पढ़ रहे है ये भी आप internet के मधिय्म से अपने Mobile फ़ोन या कंप्यूटर स्क्रीन में देख रहे यह आप किसी को मेल कर रहे हो तो देखा जाए तो आप इंफॉर्मेशन को एक जगह से दूसरे जगह में भेज रहे हो जैसा कि पहले के जमाने में इंफॉर्मेशन को शेयर करने के लिए हम पोस्टकार्ड या छुट्टी का इस्तेमाल करते थे . आपको पता ही होगा कि अगर हमें किसी को चिट्ठी भेजनी होतो उसका एक पूरा फॉर्मेट होता है जैसे कि हाउस नंबर, स्ट्रीट, locality, लैंड मार्क यह सब एक तरह के फॉर्मेट ही हैं जिसका उपयोग से हमारी चिट्ठी हमारे परिजनों पास पहुंचती है और हमें इस फॉर्मेट से हर एक आदमी का एड्रेस पता चलता है। ठीक इसी प्रकार इंटरनेट में हर एक आदमी को पहचानने के लिए IP address का उपयोग किया जाता है

IP Address क्या है ?

IP का फुल फॉर्म internet protocol address है। Protocol यानी कि एक सेट ऑफ रोल है जिसे एक फिक्स एड्रेस जैसा बनाया गया है जो सभी के लिए सेम फॉर्मेट में होगा और सभी के लिए अलग अलग होगा और सभी उसका उसे कर पाए गई एक दुरे से communicate करने के लिए .

जो normal IP Address होता है ओव कुछ इस तरह से होता है के उसके अन्दर चार सेक्शन होता है जो जीरो से लेकर दो सो पचीस तक की लिमिट होती है और हर एक सेक्शन 32 bits based address scheme में होता है जो आपको कुछ इसतरह को देखने को मिलेगा 64.25.181.40.

ये IP Address के अन्दर हमें कुछ लिमिट देखने को मिलता है क्यों की ये IPV4 के अन्दर अत है और IPV4 सिर्फ़ 4 billion address ही generate कर सकता है अगर आप 4 billon से जादा करोगे तो आप जो address है वो repeat होना चालू हो जायेगा तो अगर हम बात करें IP address की तो यह सिर्फ 4.2 billion address को ही जनरेट कर सकता है

IPV4 और IPV6 में क्या अंतर है ?

IPV4 IP Address 32 bits based होता है जबकि IPV6 128 bits based होता है . IPV4 में हम 4 billion तक का IP Address save कर सकते है जबकि IPV6 में हम 340 trillion trillion trillion तक का IP Address save कर सकते है IPV6 अभी का सबे latest technic है जबकि IPV4 बहुत ही पुराना technic है . लेकिन अभी के समय में भी हम IPV4 का ही उपियौग करते है जबकि ये बहुत ही पुर्नना होगया है लेकिन हमरे कंप्यूटर या mobile इतने Hi-tech नही के की वो IPV6 को support कर सके अभ हमें देखना है की आने वाले समय में क्या हमरी technology इतनी Hi-tech हो पाए गी की नहीं .अभ तक तो आपको पता चल गया होगा की IP Address क्या है

IP Address कितने प्रकार के होते है ?

मुख्य रूप से IP दो प्रकार के होते है

1.Public IP Address

हम जो अपने घर में या ऑफिस में जो इंटरनेट अपने IPS (Internet Service Provider)के दवरा दिए गए router, modem के जरिये use करते है वो Public IP Address रहता है

2.Private IP Address

वेसे IP Address जिनका इस्तम निजी छेत्र के अन्दर computer को assigned करने के लिए किया जाये उन्हें हम Private IP Address कहते है

  1. Internet क्या है Hindi में जाने

Conclusion

हम सभी ने आज जाना की IP Address क्या होता है और मुझे आसा है आपको हमारा आर्टिकल पढ़ के बहुत ही मजा आया होगा अगर आपको हमारा content अच्छा लगता है हमें कमेट कर के जरुर बतये साथ ही साथ अपने दोस्तों को भी share करे धनेवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here